फ्रेम

आँखों में एक फ्रेम तू खुशियों की चढ़ा ले,
ग़म तो आँखों से अपाहिज़ लोगों को भी होता है

©Devika parekh

Advertisements

4 Comments

  1. वाह क्या बात है …
    काश खुशियों का फ्रेम लगाने से खुशियाँ आती हो ,
    दिल में बसी नफ़रतो का भी तो कोई इलाज़ होगा?

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s