अमरनाथ यात्रा….

मसाफ़त खुदा के दर तक,
ज़ुल्म – ए – आतंक हो गया
कुर्बान हुए बेगुनाह इंसान,
और ज़ालिम मज़हब हो गया

©Devika parekh
मसाफ़त – journey

Advertisements

25 Comments

  1. आपने वर्तमान की स्थिति को बहुत ही सुंदर पंक्तियाँ में प्रस्तुत किया है। बहुत खूब लिखा आपने ।

    Liked by 1 person

  2. Shaandar….
    पढो ये ओ धर्म के ठेकेदारों
    और शान से ऊंचे हो जाओ!!

    तुम कामयाब नफ़रत मे हो गये!!

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s